गार्डनिंग में इन 6 गलतियों से बचें

mistakes to avoid in gardening

बागवानी करते समय हम अक्सर कुछ गलतियां कर बैठते हैं, जो हमें नहीं करनी चाहिए। इससे हमारे पौधे उतने अच्छे से विकास नहीं कर पाते हैं। चाहे आप अनुभवी हों या बिगनर्स करने वाला, आपको ये कुछ बातें पता होनी चाहिए जो मैं आपको इस लेख के माध्यम से बताने जा रही हूँ।

1. मिट्टी की गुड़ाई” की अनदेखी न करें

मिट्टी की गुड़ाई

सामान्य तौर पर, लोग अपने पौधों की वृद्धि के लिए बहुत सारे प्रयास करते हैं जैसे समय पर उर्वरक देना, ह्यूमिक एसिड या बायो एंजाइम प्रदान करना, नियमित अंतराल पर छंटाई करना और भी बहुत कुछ लेकिन वे बागवानी की बुनियादी बातें अर्थात् “मिट्टी की गुड़ाई” को अधिक महत्व नहीं देते हैं।

गुड़ाई प्रक्रिया निम्न कारणों से महत्वपूर्ण है-

  • यह मिट्टी को मुलायम बनाता है।
  • मिट्टी के पोषक तत्व ऊपर-नीचे होते रहते हैं।
  • यह अच्छा वातायन बनाए रखता है।
  • जड़ें मजबूत और स्वस्थ बनती हैं।

पौधों की सर्वोत्तम वृद्धि के लिए सप्ताह में एक बार मिट्टी की जुताई करनी चाहिए।

2. कीटनाशकों के छिड़काव की उचित तकनीक का प्रयोग न करना

पौधों पर कीटों का हमला बहुत सामान्य बात है और विशेष मौसम में मीली बग, एफिड्स, चींटियाँ, मकड़ी, घुन और कई अन्य जैसे कीड़े पनपने लगते हैं।

कीटनाशक स्प्रे
  • इनसे छुटकारा पाने के लिए कई कीटनाशक घोल उपलब्ध हैं और बनाये जाते हैं। कीड़ों से बचाव के लिए छिड़काव की उचित प्रक्रिया अपनानी होगी।
  • सबसे पहले रुई, टिशू पेपर या किसी सूती कपड़े का उपयोग करके प्रभावित पौधों से सभी कीड़ों को हटा दें। सभी पत्तियों, शाखाओं और पौधों के सभी हिस्सों को साफ करें।

  • उसके बाद, पौधों के प्रत्येक भाग, पत्तियों के किनारे, सभी शाखाओं, कलियों या फूलों पर घोल का छिड़काव करें। यदि पौधे पर एक भी कीट रह गया तो दोबारा कीट का आक्रमण होगा और समाधान की प्रभावशीलता पर प्रश्न उठेंगे।
  • इसलिए, यहां घोल अनुचित नहीं होगा बल्कि इसके लिए उचित कार्यप्रणाली का पालन करने की आवश्यकता है।
  • जब तक पौधा कीट-मुक्त न हो जाए तब तक हर दूसरे दिन उपचार करें।

3. गलत गमले की संरचना का चयन करना

सामग्री के बावजूद, गमले की संरचना बहुत मायने रखती है।

  • संकीर्ण गमलों से बचें क्योंकि जुताई, दोबारा रोपण, खाद या खाद देने और खरपतवार निकालने के समय मिट्टी को ढीला करने के लिए स्थान की आवश्यकता होती है।
  • संकरे गमलों में हमें उपयुक्त स्थान नहीं मिलता है, तो या तो गमला टूट जाएगा या पौधा खराब हो जाएगा।
  • चाहे सिरेमिक, प्लास्टिक या सीमेंट हो, लेकिन चौड़े आकार के गमले का चयन करें। मिट्टी को पर्याप्त धूप मिलेगी, जुताई आसानी से हो सकेगी और चौड़े आकार के गमलों में वातन प्रक्रिया बनी रहेगी।

4. कम्पोस्ट में रसायन मिलाना

जब घर पर कम्पोस्ट बनाई जाती है (कोई भी कम्पोस्ट जैसे- पत्तियों का कम्पोस्ट, किचन कम्पोस्ट या गाय के गोबर की कम्पोस्ट), तो स्वाभाविक रूप से इसे बनाने में 2 और 2.5 महीने लगते हैं। बैक्टीरिया और फंगस की उपस्थिति में सभी पदार्थ विघटित हो जाते हैं जो एक धीमी प्रक्रिया है।

  • कुछ लोग इसमें रसायन डालकर इस प्रक्रिया को तेज करते हैं और कम्पोस्ट 7-10 दिनों में तैयार हो जाती है, जो सही तरीका नहीं है।
  • शुद्ध जैविक खाद प्राप्त करने के लिए कोई भी रसायन नहीं मिलाना चाहिए, इसके अलावा, यदि पौधे में कोई रासायनिक रूप से प्रकट चीजें (खाद) मिलाई जाती है तो यह मिट्टी के पोषण स्तर को कम कर देगी।
  • इस खाद को डालकर उगाए गए फल, फूल या सब्जियाँ जैविक नहीं होंगी क्योंकि उनमें रसायन डाला जाएगा जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है।
  • कम्पोस्ट बनाने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए इसमें जैविक या प्राकृतिक चीजें जैसे छाछ, वर्मीकम्पोस्ट, खट्टा दही या कीड़े मिलाएं। ये सभी चीजें सामग्री के सड़ने की प्रक्रिया को तेज कर देंगी।

5. पौधों को खाद नहीं देना

फूल वाले, फल देने वाले तथा सब्जियों के पौधों को नियमित अन्तराल पर खाद की आवश्यकता होती है। वे नर्सरी में सुंदर और आकर्षक दिखते हैं क्योंकि वहां उनकी उचित देखभाल की जाती है लेकिन उन्हें घर पर लाने के बाद उनमें से कई का बढ़ना बंद हो जाता है।

सरसों की खली 
  • इन पौधों को प्रत्येक 20-25 दिन में उर्वरक की आवश्यकता होती है।
  • पौधे की तेजी से वृद्धि के लिए मिट्टी के पोषक तत्व स्तर को पूरा करने के लिए पौधे को एनपीके, सूक्ष्म पोषक तत्व, या कोई अन्य जैविक खाद दिया जाना चाहिए।

6. नीम के तेल का उपयोग करने का गलत तरीका

नीम का तेल एक जैविक तेल और सबसे अच्छा कीटनाशक है लेकिन कई लोगों की शिकायत होती है कि नीम के तेल का उपयोग करने के बाद उनके पौधे जल जाते हैं। खैर, यहां समस्या नीम के तेल की नहीं है बल्कि समस्या यह है कि इसका उपयोग किस प्रकार किया गया है।

नीम के तेल का स्प्रे
  • नीम का तेल प्रबल (स्ट्रोंग) होता है इसलिए पत्तियों पर लगाने से पत्तियों के छिद्र बंद हो जाते हैं और प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया रुक जाती है।
  • इससे बचने के लिए हमेशा शाम के समय नीम के तेल का छिड़काव करें और रात भर पौधे को ऐसे ही रहने दें। अगले दिन सुबह सूर्योदय से पहले पौधे को खूब पानी से अच्छी तरह धो लें।
  • नीम का तेल रात में अपना काम करेगा इसलिए सुनिश्चित करें कि नीम के तेल वाली पत्तियां धूप के संपर्क में न आएं। धोते समय तेल मिट्टी में गिर सकता है इससे कोई समस्या नहीं है।

इस प्रकार उपरोक्त बातों का ध्यान रखिये और बागवानी करते रहें!

शुभ बागवानी!!

धन्यवाद!!

Contact Us

Scroll to Top
Why Planting Hibiscus at Home Can Be Beneficial? The Tale of Aloe Vera Plants That Thrive in Warm Temperature 10 Reasons Why You Should Have Tulsi (Holy Basil) Plant At Home How to Propagate Jade Plant from Cuttings Benefits of Adding Compost in Soil Watering Tips for Areca Palm How to Care Rose Plant in Summer Season Watering Tips for Hibiscus Plant गर्मी के मौसम में तुलसी के पौधे को पानी कैसे दें Amazing Medicinal Benefits of Night Jasmine (Parijat) Plant Check 7 Benefits of Having Indoor Plants At Home Watering Tips for Tulsi Plant 12 Reasons To Have Jade Plant at Home 7 Tips to Care Spider Plant Is Jade Plant an Outdoor or Indoor Plant? Benefits and Uses of Neem Oil for Plants 5 Best Big Leafy Plant for Your Home Decor Tips to Care Hibiscus Plant Learn About Beneficial Insects in the Garden
Why Planting Hibiscus at Home Can Be Beneficial? The Tale of Aloe Vera Plants That Thrive in Warm Temperature 10 Reasons Why You Should Have Tulsi (Holy Basil) Plant At Home How to Propagate Jade Plant from Cuttings Benefits of Adding Compost in Soil Watering Tips for Areca Palm How to Care Rose Plant in Summer Season